वेस्टइंडीज के सीनियर खिलाड़ियों की इस हरकत से आहत हैं टीम के पूर्व कप्तान, बताया शर्मनाक

नई दिल्ली। वेस्टइंडीज की टीम इस समय भारत के खिलाफ टी-20 सीरीज खेल रही है। तीन मैचों की इस सीरीज के पहला मुकाबला गंवा कर मेहमान टीम 1-0 से पीछे चल रही है। अब इस सीरीज का दूसरा मैच कल (मंगलवार) को लखनऊ में खेला जाना है। लखनऊ के इकाना स्टेडियम में होने वाले इस मैच में भारत का पलड़ा भारी बताया जा रहा है। कारण है वेस्टइंडीज के कई सीनियर खिलाड़ी इस सीरीज के लिए उपलब्ध नहीं है। क्रिस गेल, आंद्रे रसेल, इविन लुईस जैसे तूफानी बल्लेबाजों ने खुद को इस सीरीज से अलग रखा है। लिहाजा इंडीज की टीम वैसा प्रदर्शन नहीं कर रही है, जिसकी उम्मीद लगाई जा रही थी।

इंडीज के पूर्व कप्तान कार्ल हूपर ने जताई नाराजगी-
सीरीज से सीनियर खिलाड़ियों के बाहर रहने के कारण वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान कार्ल हूपर नाराज है। हूपर ने कहा कि सीनियर खिलाड़ियों का टीम से न खेलना शर्मनाक है। विस्फोटक सलामी बल्लेबाज क्रिस गेल ने वनडे सीरीज से पहले खुद को चयन के लिए उपलब्ध कराने से इंकार कर दिया जबकि इविन लुईस निजी कारणों के चलते टीम का हिस्सा नहीं बने। सुनील नरेन और आंद्रे रसेल चोट के कारण टी-20 टीम का हिस्सा नहीं हैं।

 

wi

यदि सीनियर खिलाड़ी होते तो परिणाम कुछ और होता-
हूपर ने कहा, “यह शर्मनाक है कि कुछ खिलाड़ियों को वेस्टइंडीज के लिए खेलने में दिलचस्पी नहीं है। मुझे नहीं पता कि उन्हें टीम के लिए खेलने में क्यों दिलचस्पी नहीं है लेकिन यह बात साफ है कि वह खेलना नहीं चाहते।” भारत ने टेस्ट सीरीज को 2-0 और वनडे सीरीज को 3-1 से अपने नाम किया था। हूपर ने कहा, “यह एक युवा टीम है और खिलाड़ियों को थोड़ा समय चाहिए। अगर सीनियर खिलाड़ी टीम को हिस्सा होते तो भारत के लिए सीरीज जीतना इतना आसान नहीं होता।”

मौजूदा टीम ने निरंतरता की कमी- हूपर
हूपर ने आगे कहा, “आईसीसी विश्व कप क्वालीफायर के फाइनल में हमें अफगानिस्तान के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा। अगर हमारी पूरी टीम होती तो हम मैच जीत सकते थे।” पूर्व कप्तान के मुताबिक, वेस्टइंडीज की मौजूदा टीम में निरंतरता की कमी है। हूपर ने कहा, “कुछ दिन हम अच्छा खेलते हैं। कुछ दिन हम स्थिति के अनुसार नहीं खेल पाते। हमें निरंतर अच्छा प्रदर्शन करने की जरूरत है।”

Source :

Patrika : India’s Leading Hindi News Portal

read more

Categories: AllCricketRajasthan